सिम कार्ड फ्रॉड से ₹2.2 लाख का चूना, जान लीजिए बचने का तरीका

नई दिल्ली।
पुणे की एक 39 वर्षीय चार्टेड अकाउंटेंट को सिम कार्ड फ्रॉड के जरिए 2.2 लाख रुपये का चूना लग गया। जालसाजों ने महिला सीए को उनके 3जी सिम को 4जी में अपग्रेड करने के नाम पर फंसाया था। उन्होंने महिला का सिम कार्ड क्लोन किया और बैंक अकाउंट से पैसे ट्रांसफर कर लिए।

इस तरह लगाया चूना
एक व्यक्ति ने महिला को टेलिकॉम कंपनी का कर्मचारी बताकर कॉल किया। कॉलर ने कहा कि वह (सीए) 3जी सिम कार्ड का इस्तेमाल कर रही हैं, जिसे 4जी में अपग्रेड नहीं किया तो उनकी सर्विस बंद कर दी जाएंगी। कॉलर ने महिला से सभी डीटेल्स लीं और एक 20 डिजिट का नंबर भेजा। जालसाज ने महिला से उस नंबर पर क्लिक करने को कहा। क्लिक करते ही सिम कार्ड ब्लॉक हो गया और जालसाज ने उसी नंबर पर दूसरा सिम कार्ड क्लोन करके बैंक अकाउंट्स को ऐक्सेस कर लिया। यूजर्स को फ्री गिफ्ट के लिए फ्रॉड ऐड चलाने वाले ऐप्स को किया डिलीट

क्या है सिम कार्ड फ्रॉड
इसे सिम क्लोनिंग या सिम स्वैप कहा जाता है। इसमें हैकर्स आपका सिम ब्लॉक करके उसी नंबर को अपने पास ऐक्टिवेट करा लेते हैं। अगर आपका नंबर बैंक अकाउंट्स से लिंक्ड है तो हैकर्स को इसका फायदा मिल जाता है। वे क्लोन किए गए सिम पर ओटीपी मंगाते हैं और आपके बैंक अकाउंट्स को खाली कर देते हैं।

सिर्फ एक फोन कॉल और खाली हो रहे बैंक अकाउंट, सरकार ने दी चेतावनी

सिम कार्ड फ्रॉड से कैसे बचें
आमतौर पर जालसाज आपको सिम कार्ड अपग्रेड, नेटवर्क बेहतर करने या टेलिकॉम से जुड़ी दूसरी सर्विस के नाम पर फंसाते हैं। ऐसे में बेहतर होगा कि किसी भी अनजान को अपनी जानकारी न दें। अगर आपको सिम कार्ड अपग्रेड कराना भी है तो ऑफिशल स्टोर पर जाकर ऐसा कराएं। इसके अलावा किसी भी अनजान नंबर से भेजे गए लिंक पर क्लिक न करें।

Source link