पिछले साल की तुलना में सरल रहा पेपर, बायोलॉजी ईजी तो फिजिक्स ने किया परेशान, कोरोना के बीच परीक्षा के इंतजामों से संतुष्ट दिखें कैंडिडेट्स

  • Hindi News
  • Career
  • NEET UG 2020 Paper Analysis| The Paper Was Simpler Than Last Year, Biology Easy And Physics Upset, Candidates Appear Satisfied With Exam Arrangements Among Corona
four मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

मेडिकल कोर्सेस में एडमिशन के लिए होने वाले नेशनल एलिजिबिलिटी कम एंट्रेंस टेस्ट (नीट) का रविवार को आयोजन किया गया। देश के 80,055 एमबीबीएस, 26,949 बीडीएस, 5,2720 आयुष और 525 ‌‌ ‌BvSC और AH कोर्सेस ऑफर करने वाले कॉलेज में एडमिशन के लिए इस साल करीब 15.97 लाख कैंडीडेट्स ने रजिस्ट्रेशन कराया था।

इस साल ज्यादा हो सकता है कटऑफ

एक्सपर्ट के मुताबिक इस साल पिछले साल की तुलना में कटऑफ ज्यादा जा सकता है। विशेषज्ञ पिछले वर्षों की तुलना में अधिक कटौती का सुझाव दे रहे हैं। टॉप स्कोर भी 700 से अधिक होने की संभावना है। एक्सपर्ट का मानना ​​है कि छात्रों को NEET परीक्षा पास करने के लिए 140 के हाई स्कोर की जरूरत हो सकती है। सरकारी मेडिकल कॉलेजों में सीट पाने के लिए यह स्कोर 510 – 450 अंकों के बीच हो सकता है।

फिजिक्स ने किया परेशान

परीक्षा में खत्म होने के बाद कैंडिडेट्स की तरफ से पेपर में आए क्वेश्चन को लेकर अलग-अलग रिएक्शन मिल रहे है। परीक्षा में शामिल हुए कैंडिडेट्स के मुताबिक बायोलॉजी के क्वेश्चन सरल थे। हालांकि, उन्हें तीनों सेक्शन में फिजिक्स पार्ट थोड़ा कठिन लगा। वहीं, कुछ स्टूडेंट्स के मुताबिक पिछले साल की तुलना में इस बार का पेपर ज्यादा ट्रिकी नहीं था। परीक्षा में ज्यादातर क्वेश्चन NCERT बेस्ड थे। साथ ही कैंडिडेट्स परीक्षा के दौरान हुए सीटिंग अरेंजमेंट से भी संतुष्ट नजर आएं।

कैसे कैल्कुलेट करें NEET 2020 का स्कोर?

NEET 2020 के स्कोर की कैल्कुलेशन करने के लिए कैंडिडेट्स नीचे दिए गए फॉमूले की मदद ले सकते हैं।

NEET 2020 स्कोर की गणना करने का फॉर्मूला = [4 * (सही जवाबों की संख्या)] – [1 * (गलत जवाबों की संख्या)]

पिछले बार से आसान था पेपर

दूसरी बार NEET में शामिल होने वाले भोपाल के आकाश शर्मा बताते है कि पिछली साल की तुलना पेपर सरल था। हालांकि, उन्हें इस बार पेपर थोड़ा लंबा और टाइम टेकिंग लगा। आकाश ने कहा कि बाकी दो सेक्शन के मुकाबले फिजिक्स ज्यादा कठिन रहा। वहीं, कोरोना को लेकर हुए इंतजामों के बारे में उन्होंने बताया कि परीक्षा केंद्र पर सेनिटाइजेशन से लेकर सोशल डिस्टेंसिंग सभी का अच्छे से पालन किया गया।

परीक्षा देने ब्यावरा से पहुंची भोपाल

मध्य प्रदेश के ब्यावरा की रहने वाली रितिका साहू NEET परीक्षा में शामिल होने के लिए अपने सेंटर भोपाल पहुंची। अपने पेपर के बारे में बताते हुए वह कहती है कि पेपर आसाना था। हालांकि, फिजिक्स की तैयारी थोड़ी कम होने की वजह से उन्होंने इस सेक्शन के क्वेश्चन कम ही अटेंड किए। कोरोना के बीच सफर कर परीक्षा देने आई रितिका ने बताया कि परीक्षा के दौरान कोरोना की सभी गाइडलाइंस फॉलो की गई। लेकिन, परीक्षा खत्म होते ही सेंटर के बाहर सोशल डिस्टेंसिंग का कोई पालन नहीं किया गया।

सुरक्षा उपायों को लागू कर रहा था स्टाफ

गुड़गांव से परीक्षा देने वाले मोहित बताते है कि NEET 2020 का प्रश्नपत्र कठिन था। बायोलॉजी के क्वेश्चन सरल थे, लेकिन थोड़ा ट्रिकी था, जबकि फिजिक्स का पेपर काफी लंबा और मुश्किल था। उन्होंने बताया कि परीक्षा केंद्र पर मौजूद स्टाफ सुरक्षा उपायों को लागू करने की कोशिश कर रहा था, हालांकि, भीड़ निर्देशों का पालन नहीं कर रही थी। प्रवेश द्वार के सामने एक समूह में खड़े माता-पिता बहुत सारी चीजों के बारे में चिल्ला- चिल्लाकर शिकायत कर रहे थे।

स्क्रीनिंग के लिए एक घंटे तक करना पड़ा इंतजार

दिल्ली के रौशन कहते हैं कि पेपर कठिन था। जिसमें फिजिक्स काफी कठिन था और बायोलॉजी थोड़ा ट्रिकी। उन्होंने बताया कि वह परीक्षा शुरू होने से पहले ही थकावट महसूस कर रहे थे। मेट्रो सेवाएं फिर से शुरू की गईं, लेकिन इसमें सफर करना काफी भयानक था। मैं समय पर NEET 2020 परीक्षा केंद्र पर पहुंच गया, लेकिन कोरोना स्क्रीनिंग के लिए एक घंटे तक इंतजार करना पड़ा।

0

Source link